Skip to main content

लखनऊ: योगी सरकार ने मानी प्रियंका की 1000 बसों वाली बात, बोले- भेजिये चालक, परिचालक की सूची


लखनऊ: योगी सरकार ने प्रियंका गांधी के मजदूरों के लिए बसें भेजने के अनुरोध को स्वीकार कर लिया है। कांग्रेस की ओर से उत्तर प्रदेश सरकार को 1000 बसें देने का प्रस्ताव रखा गया था, इन बसों को यूपी बॉर्डर पर खड़ा किया गया था। लेकिन, यूपी सरकार ने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया था और कहा था कि सरकार की ओर से पर्याप्त मात्रा में बसों का इंतजाम किया जा रहा था। अब योगी सरकार ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के 1000 बसों का प्रस्ताव स्वीकार करते हुए चालक,परिचालक का नाम समेत सूची मांगी है।
उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने प्रियंका गांधी वाड्रा को जवाबी पत्र में कहा है कि मुख्यमंत्री को संबोधित पत्र में प्रवासी मजदूरों को लाने के लिए अपने स्तर पर 1,000 बसों को चलाने के आपके प्रस्ताव को स्वीकार किया जाता है। सरकार की ओर से कांग्रेस पार्टी और प्रियंका गांधी वाड्रा से एक हजार की बसों की सूची, चालक और परिचालक का नाम और अन्य विवरण उपलब्ध कराने को कहा गया है, जिससे इनका उपयोग प्रवासी श्रमिकों की सेवा में किया जा सके। केंद्र और प्रदेश सरकार को कोरोना पर लगातार घेरने वाली कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पिछले हफ्ते 16 मई को पत्र लिखा था। प्रियंका गांधी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर कहा था कि प्रवासी मजदूरों को सुरक्षित उनके घर पहुंचाने के लिए कांग्रेस अपने स्तर पर बसें चलाना चाहती है।उन्होंने मुख्यमंत्री से यह मांग की थी कि सरकार कांग्रेस को 1,000 बसों के परिचालन की अनुमति दें। बस का पूरा खर्च कांग्रेस पार्टी उठाएगी।
प्रियंका गांधी वाड्रा का यह पत्र प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के नेतृत्व में नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री कार्यालय पहुंचकर दिया था। इससे पहले प्रियंका गांधी ने औरैया हादसे को हृदयविदारक बताते हुए सवाल किया था कि आखिर सरकार क्या सोचकर इन मजदूरों के घर जाने की समूचित व्यवस्था नहीं कर रही? प्रदेश के अंदर प्रवासी।

Comments

Popular posts from this blog

महराजगंज: एक बार फिर कलंकित हुआ विद्या का पवित्र मंदिर, सह प्रबंधक का अश्लील वीडियो वायरल

महराजगंज : विद्यालय पवित्र मंदिर के समान होता है उसमें पढ़ाने वाले शिक्षक समाज के दर्पण होते है। व्यवस्था देखने वाले समाज को आईना दिखाने का कार्य करते हैं। समाज के लिए अनुकरणीय होते है। ऐसे में व्यवस्थापक ही मानवता को तार-तार करने में लग जाएंगे तो फिर समाज को कहां तक सुधार पाएंगे। ऐसा ही मामला कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम सभा धर्मपुर के एक विद्यालय के सह प्रबंधक का प्रकाश में आया है। उनका एक अज्ञात युवती के साथ वायरल वीडियो क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है। जिसमें वह युवती को इंगित कर अश्लील हरकत करते हुए साफ तौर पर देखे जा सकते हैं। यही नहीं वीडियो कॉल के जरिए लड़की से बात कर अर्धनग्न होकर अश्लील हरकतें भी कर रहे हैं। उनका यह कृत्य समाज के लिए निंदनीय है। उनके स्कूल के जरिए छात्राओं को किस तरह की शिक्षा मिल पाएगी यह तो सोचनीय प्रश्न है। समझ में नहीं आता बड़े-बड़े दावे करने वाले और महिला सशक्तिकरण की बात करने वाले समाज के दर्पण पुनीत कार्य करने वाले इस तरह के कृत्यों में किस तरह संलिप्त हो जाते है? फिलहाल यह तो जांच का विषय है जो क्षेत्र में चर्चा का व

महराजगंज: रक्षक ही बना भक्षक, शादी का झांसा देकर लूटा आबरू

👤 रिपोर्ट- बी.के. द्विवेदी महराजगंज : जब रक्षक ही भक्षक बन जाए तो सुरक्षा कहां तक की जा सकती है, ये सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है। मामला कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत कलेक्टरेट पुलिस चौकी पर तैनात एक कांस्टेबल की है। नंदलाल यादव पुत्र अशोक यादव नामक सिपाही कोतवाली थाना के ही नगर की रहने वाली एक लड़की को बहला-फुसलाकर शादी का झांसा देता रहा और उसका आबरू लूटता रहा। यही नहीं शादी का दबाव बनाने पर सिपाही ने दुर्गा मंदिर में ले जाकर लड़की को सिंदूर दान भी किया। जब बात आई उसे अपने साथ रखने की तो कतराने लगा और लड़की से दूरियां बनाने लगा। भविष्य अंधकार में देख लड़की ने जब आवाज उठाई तो कुछ महिला-पुरुष सिपाही उसे संबंध ना होने का दबाव बनाने लगे।  आखिरकार लड़की न्याय के लिए न्यायालय का दरवाजा खटखटाने के लिए विवश हो गई। यह दिगर बात है की पीड़िता को न्याय मिल जाए लेकिन समझ में यह नहीं आता की सुरक्षा की जिम्मेदारी थामने वाली पुलिस जो अब स्वयं इस तरह की वारदातों में संलिपत होती जाएगी तो फिर आखिर जनता किस तरह पुलिस पर विश्वास कर पाएगी। जो भी हो देखना अब यह है की पुलिस अपनी विवा

महराजगंज: पन्द्रह वर्षीय किशोरी के साथ गैंगरेप, मुख्य आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ़्तार

महराजगंज : गैंगरेप का मामला थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। अभी हाथरस, बलरामपुर व अन्य शहरों में हुए गैंगरेप की घटनाओं से लोग उभरे भी नही थे की अब महराजगंज से भी गैंगरेप की खबर आ गयी। बताते चलें कि कोठीभार थाना क्षेत्र से एक पंद्रह वर्षीय किशोरी के साथ गैंगरेप का मामला प्रकाश में आ गया है। रविवार की देर शाम सामने आए इस वारदात से पुलिस महकमें में सनसनी मच गई। पीड़िता के पिता की तहरीर पर कोठीभार थाना क्षेत्र के पंडितपुर गांव निवासी मुख्य आरोपी समेत दो को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। नवागत पुलिस अधीक्षक प्रदीप गुप्ता ने अपर जिलाधिकारी कुंज बिहारी अग्रवाल के साथ जिला अस्पताल पहुंचकर पीड़ित किशोरी से मुलाकात किया और परिजनों को भरोसा दिलाया कि दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जाएगी।   ■ चार हैवानों ने किशोरी को बनाया शिकार, गैंगरेप से हो गई थी बेहोश   कोठीभार पुलिस को दिए तहरीर में परिजनों ने बताया कि रविवार को दिन में ग्यारह बजे पंडितपुर गांव का निवासी आरोपी सतीश पुत्र गुड्डू ने पीड़िता को फोन कर बुलाया। वह उससे मिलने पहुंची। वहां सतीश अपने तीन साथियों के साथ पहले