कुशीनगर: पूर्व सैनिकों को रेलवे द्वारा नौकरी से निकाला गया तो आंदोलन को बाध्य होगें पूर्व सैनिक- रामचन्द्र सिंह

रिपोर्ट- संदीप सिंह

कुशीनगर: वर्ष 2018 में 2400 पूर्व सैनिकों को रेलवे द्वारा ट्रेनिंग देकर संविदाकर्मी के रूप में रेलवे जोन, गोरखपुर व हाजीपुर एनईआर द्वारा गेटमेन के पद पर नियुक्त किया किया गया था। मगर इस नियुक्ति को भारतीय रेलवे द्वारा तत्काल प्रभाव से कोरोना महामारी का हवाला देकर हटाया जा रहा है।

जिसके वजह से पूर्व सैनिकों व उनके आश्रित के पेट के ऊपर भारतीय रेलवे द्वारा प्रहार किया जा रहा है। जिसको लेकर पूर्व सैनिकों में आक्रोश व्याप्त है। जबकि भारत सरकार द्वारा पूर्व सैनिकों को स्थायी तौर पर अन्य विभागों में नौकरी देने का व्यवस्था किया जाता है।

इस सम्बन्ध में रामचन्द्र सिंह, प्रदेश अध्यक्ष किसान विंग वेटरन (पूर्वी) एक ज्ञापन भारत के प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी को ई-मेल के माध्यम से भेज कर माँग किया है की 2400 पूर्व सैनिक जो संविदाकर्मी के रूप में रेलवे जोन, गोरखपुर व हाजीपुर एनईआर द्वारा गेटमेन पद से हटाया जा रहा है उनके नियुक्ति को तत्काल प्रभाव से बहाल किया जाए। ताकि वह अपनी सेवा देश हित में दे सके। यदि ऐसा नही हुआ तो हम वेटरन पूर्व सैनिकों के माँगों को लेकर सड़क पर आने के लिये मजबूर होंगे जिसकी जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी।

Comments