Skip to main content

नई दिल्ली: छठ का महापर्व आज, संतानोत्पत्ति व दीर्घायु के लिए होती है छठ माता की पूजा

👤Special Story By B.K. Dwivedi

नई दिल्ली: कार्तिक शुक्ल पक्ष के षष्ठी तिथि को मनाया जाने वाला यह छठ पर्व संतानोत्पत्ति व उनके सुरक्षा अर्थात दीर्घायु के लिए मनाया जाता है। मान्यता के मुताबिक छठ देवी सूर्य देव की बहन है और उन को खुश करने के लिए सूर्य व जल की महत्ता को मानते हुए इन्हे साक्षी मानकर भगवान सूर्य की आराधना तथा उनका धन्यवाद करते हुए मां गंगा यमुना या किसी भी पवित्र नदी या पोखरी के किनारे यह पूजा किया जाता है। छठ माता को बच्चों की रक्षा करने वाली देवी माना जाता है। 

इस व्रत को करने से संतान को लंबी आयु का वरदान मिलता है। मार्कंडेय पुराण में इस बात का जिक्र है कि सृष्टि अधिष्ठात्री प्रकृति देवी ने अपने आप को 6 भागों में विभाजित किया है। इन के छठे अंश को सर्वश्रेष्ठ मातृ देवी के रूप में जाना जाता है जो ब्राह्मा की मानस पुत्री हैं। कार्तिक मास की षष्ठी तिथि को इस देवी की पूजा की जाती है। पौराणिक कथा के अनुसार प्रियंबद नामक एक राजा थे। जिनकी कोई संतान नहीं थी। संतान प्राप्ति के लिए राजा ने यज्ञ करवाया। यह यज्ञ महर्षि कश्यप ने संपन्न कराया और यज्ञ करने के बाद महर्षि ने प्रियंबद की पत्नी मालिनी को आहूत के लिए बनाई गई खीर प्रसाद के रूप में ग्रहण करने के लिए दी।

खीर खाने से उन्हें पुत्र प्राप्ति हुई लेकिन उनका पुत्र मरा हुआ पैदा हुआ। यह देख राजा बेहद व्याकुल और दुखी हुए। अपने मरे हुए पुत्र को लेकर राजा शमशान गए और पुत्र वियोग में अपने प्राण त्यागने लगे इसी समय ब्रह्मा की मानस पुत्री देवसेना प्रकट हुई। उसने राजा से कहा कि वह उनकी पूजा करें। यह भी श्रेष्ठ की मूल प्रवृत्ति की छठी अंश से उत्पन्न हुई है। यही कारण है कि यह छठी मैया कही जाती है।

जैसा माता ने कहा था ठीक वैसे ही राजा ने पुतृ की कामना से देवी का व्रत किया। यह व्रत करने से राजा को पुत्र की प्राप्ति हुई। कहा जाता है कि छठ पूजा संतान प्राप्ति और संतान की सुखी जीवन के लिए किया जाता है। एक अन्य मान्यता के अनुसार छठ पर्व की शुरुआत महाभारत काल में हुई थी। महाभारत काल में सबसे पहले सूर्यपुत्र कर्ण ने सूर्य देव की पूजा शुरू की। कर्ण भगवान सूर्य के परम भक्त थे। कुछ कथाओं में पांडव की पत्नी द्रोपदी भी सूर्य की पूजा की थी।


[ हिंदी एक्सप्रेस न्यूज़ के एंड्राइड ऐप को डाऊनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें, आप हमें फेसबुकट्विटरयूट्यूब और इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं। ]

Comments

Popular posts from this blog

महराजगंज: एक बार फिर कलंकित हुआ विद्या का पवित्र मंदिर, सह प्रबंधक का अश्लील वीडियो वायरल

महराजगंज : विद्यालय पवित्र मंदिर के समान होता है उसमें पढ़ाने वाले शिक्षक समाज के दर्पण होते है। व्यवस्था देखने वाले समाज को आईना दिखाने का कार्य करते हैं। समाज के लिए अनुकरणीय होते है। ऐसे में व्यवस्थापक ही मानवता को तार-तार करने में लग जाएंगे तो फिर समाज को कहां तक सुधार पाएंगे। ऐसा ही मामला कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम सभा धर्मपुर के एक विद्यालय के सह प्रबंधक का प्रकाश में आया है। उनका एक अज्ञात युवती के साथ वायरल वीडियो क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है। जिसमें वह युवती को इंगित कर अश्लील हरकत करते हुए साफ तौर पर देखे जा सकते हैं। यही नहीं वीडियो कॉल के जरिए लड़की से बात कर अर्धनग्न होकर अश्लील हरकतें भी कर रहे हैं। उनका यह कृत्य समाज के लिए निंदनीय है। उनके स्कूल के जरिए छात्राओं को किस तरह की शिक्षा मिल पाएगी यह तो सोचनीय प्रश्न है। समझ में नहीं आता बड़े-बड़े दावे करने वाले और महिला सशक्तिकरण की बात करने वाले समाज के दर्पण पुनीत कार्य करने वाले इस तरह के कृत्यों में किस तरह संलिप्त हो जाते है? फिलहाल यह तो जांच का विषय है जो क्षेत्र में चर्चा का व

महराजगंज: रक्षक ही बना भक्षक, शादी का झांसा देकर लूटा आबरू

👤 रिपोर्ट- बी.के. द्विवेदी महराजगंज : जब रक्षक ही भक्षक बन जाए तो सुरक्षा कहां तक की जा सकती है, ये सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है। मामला कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत कलेक्टरेट पुलिस चौकी पर तैनात एक कांस्टेबल की है। नंदलाल यादव पुत्र अशोक यादव नामक सिपाही कोतवाली थाना के ही नगर की रहने वाली एक लड़की को बहला-फुसलाकर शादी का झांसा देता रहा और उसका आबरू लूटता रहा। यही नहीं शादी का दबाव बनाने पर सिपाही ने दुर्गा मंदिर में ले जाकर लड़की को सिंदूर दान भी किया। जब बात आई उसे अपने साथ रखने की तो कतराने लगा और लड़की से दूरियां बनाने लगा। भविष्य अंधकार में देख लड़की ने जब आवाज उठाई तो कुछ महिला-पुरुष सिपाही उसे संबंध ना होने का दबाव बनाने लगे।  आखिरकार लड़की न्याय के लिए न्यायालय का दरवाजा खटखटाने के लिए विवश हो गई। यह दिगर बात है की पीड़िता को न्याय मिल जाए लेकिन समझ में यह नहीं आता की सुरक्षा की जिम्मेदारी थामने वाली पुलिस जो अब स्वयं इस तरह की वारदातों में संलिपत होती जाएगी तो फिर आखिर जनता किस तरह पुलिस पर विश्वास कर पाएगी। जो भी हो देखना अब यह है की पुलिस अपनी विवा

महराजगंज: पन्द्रह वर्षीय किशोरी के साथ गैंगरेप, मुख्य आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ़्तार

महराजगंज : गैंगरेप का मामला थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। अभी हाथरस, बलरामपुर व अन्य शहरों में हुए गैंगरेप की घटनाओं से लोग उभरे भी नही थे की अब महराजगंज से भी गैंगरेप की खबर आ गयी। बताते चलें कि कोठीभार थाना क्षेत्र से एक पंद्रह वर्षीय किशोरी के साथ गैंगरेप का मामला प्रकाश में आ गया है। रविवार की देर शाम सामने आए इस वारदात से पुलिस महकमें में सनसनी मच गई। पीड़िता के पिता की तहरीर पर कोठीभार थाना क्षेत्र के पंडितपुर गांव निवासी मुख्य आरोपी समेत दो को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। नवागत पुलिस अधीक्षक प्रदीप गुप्ता ने अपर जिलाधिकारी कुंज बिहारी अग्रवाल के साथ जिला अस्पताल पहुंचकर पीड़ित किशोरी से मुलाकात किया और परिजनों को भरोसा दिलाया कि दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जाएगी।   ■ चार हैवानों ने किशोरी को बनाया शिकार, गैंगरेप से हो गई थी बेहोश   कोठीभार पुलिस को दिए तहरीर में परिजनों ने बताया कि रविवार को दिन में ग्यारह बजे पंडितपुर गांव का निवासी आरोपी सतीश पुत्र गुड्डू ने पीड़िता को फोन कर बुलाया। वह उससे मिलने पहुंची। वहां सतीश अपने तीन साथियों के साथ पहले