महराजगंज: पीड़ित के खिलाफ ही पनियरा पुलिस ने कर दी गुंडा एक्ट की कार्रवाई

👤रिपोर्ट- कार्तिकेय पांडेय

महराजगंज: पनियरा पुलिस का एक और नया कारनामा सामने आया है। पनियरा पुलिस ने पीड़ित के खिलाफ ही गुंडा एक्ट की कार्यवाही कर दी है। जबकि पीड़ित के खिलाफ एक भी मुकदमा पंजीकृत नहीं है और ना ही कोई आपराधिक इतिहास है। पीड़ित ने उच्चाधिकारियों से न्याय की गुहार लगाई है।

जानें, क्या है पूरा मामला
बताते चलें पनियरा थाना क्षेत्र के ग्राम सभा बहरामपुर निवासी दीपचंद ने बताया कि 3 सितंबर 2020 को सुबह लगभग 8 बजे उसके ही गांव के कुछ लोगों ने पुरानी रंजिश को लेकर मारपीट करके घायल कर दिया था और मरणासन्न अवस्था में छोड़कर फरार हो गए थे। जिसके बाद गांव के कुछ लोगों ने इलाज के उसे लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पनियरा लाया। जहां से चिकित्सकों ने हालत गंभीर देख जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। जिला अस्पताल से भी पीड़ित को बीआरडी मेडिकल कॉलेज के लिए रेफर कर दिया गया। जहां किसी तरह से पीड़ित की जान बची।

पीड़ित ने न्यायालय में किया अपील
इस मामले में पीड़ित ने पनियरा पुलिस को तहरीर देकर न्याय की गुहार लगाई तो पनियरा पुलिस ने कार्यवाही के नाम पर एनसीआर दर्ज कर मामले से इतिश्री कर लिया।परेशान होकर पीड़ित ने मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर न्यायालय से दर्ज एनसीआर की विवेचना कराने के लिए अपील किया। जिसके बाद न्यायालय ने पनियरा पुलिस को 6 नवंबर 2020 को दर्ज एनसीआर की विवेचना कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया। लेकिन पनियरा पुलिस ने मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया। इतना ही नहीं कार्यवाही के नाम पर उल्टे ही पीड़ित दीपचंद और उसके छोटे भाई रोहित के खिलाफ गुंडा एक्ट की कार्रवाई कर नोटिस जारी कर दिया है। जबकी इस पीड़ित के खिलाफ कोई न तो मुकदमा दर्ज है और न ही कोई अपराधिक इतिहास है। ऐसे में शोषित पीड़ितों को न्याय कैसे मिलेगा? यह उस पीडित परिवार के लिए चिन्ता कि विषय बना हुआ है।


पनियरा पुलिस के इस मनमानी कार्यवाही से सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है की किसी धन बली के इसारे पर गुंडा एक्ट की कार्यवाही किया गया है। हालांकि योगी सरकार ने पीड़ितों को न्याय दिलाने के लिए सख्त निर्देश दिया है। इसके बावजूद पनियरा पुलिस सरकार की मंशा के विपरीत काम करने पर तुली है। इस संबंध में पूछे जाने पर उपनिरीक्षक धर्मेंद्र कुमार गौतम ने बताया कि विवेचना की जा रही है पीडित के मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर धारा तब्दील कर दिया गया है और आगे की कार्यवाही की जा रही है। गुंडा एक्ट की कार्यवाही कैसे हुई है यह मुझे नहीं पता है।


[ हिंदी एक्सप्रेस न्यूज़ के एंड्राइड ऐप को डाऊनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें, आप हमें फेसबुकट्विटरयूट्यूब और इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं। ]

Comments