गोरखपुर: कोरोना से लड़ने के लिए यू.एस. एकेडमी बच्‍चों को कर रहा तैयार, ऑनलाइन क्लास में शुरू किया 'गुब्‍बारा फुलाओ' प्रतियोगिता

गोरखपुर: कोरोना महामारी की तीसरी लहर से बच्चों को बचाने के लिए एक निजी स्कूल ने अनूठी पहल शुरू की है। बता दें कि बच्चों का फेफड़ा मजबूत रहे और वो कोरोना से सामना कर सके इसके लिए बरगदवा में स्थित यू.एस. एकेडमी ने कक्षा 1 से लेकर कक्षा 8 तक के बच्चों के लिए गुब्बारा फुलाओं प्रतियोगिता का आयोजन किया है। यह प्रतियोगिता रोजाना हो रही है। आनलाइन क्लास के बीच 10 मिनट के लिए यह प्रतियोगिता होती है। निर्धारित 10 मिनट के समय में जो छात्र सर्वाधिक गुब्बारे फुलाता है उसे सर्वाधिक अंक दिया जाता है। बच्चों के लिए यह तो महज एक प्रतियोगिता है। लेकिन स्वास्थ्य के नजर से देखें तो अगर यह यूं ही चलता रहा तो निश्चित तौर पर बच्चो का फेफड़ा बहुत ही मजबूत हो जाएगा।

यू.एस. एकेडमी के निदेशक राजेश मणि ने बताया कि उन्हें अखबारों और अन्य श्रोत्रों से पता चला कि गुब्बारा फुलाने से फेफड़ों में मजबूती आती है। इसकी तस्दीक कुछ वरिष्ठ चिकित्सकों से भी। सभी ने इसपर सहमति जताई। चूंकि स्कूल बंद चल रहा है। लिहाजा आनलाइन क्लास के ही जरिए ही बच्चों में गुब्बारा फुलाओ प्रतियोगिता कराने की सोची। विद्यालय के कोर कमेटी से बात की और सभी शिक्षकों भी इस बात पर राजी हो गये। हर तरफ से हरी झंडी मिलने के बाद कक्षा 1 से कक्षा 8 तक के बच्चों के लिए प्रतियोगिता शुरू करा दी गई।

गुब्बारा फुलाने के लिए बच्चे भी उत्साहित
यू.एस. एकेडमी की विज्ञान शिक्षिका शालिनी बताती हैं कि वह जैसे ही बच्चों को गुब्बारा फुलाने के लिए कहती हैं सभी बच्चे हाथ में गुब्बारा लेकर तैयार हो जाते हैं। बहुत ही मन से सभी गुब्बारा फुलाते हैं और सर्वाधिक अंक बटोरने का प्रयास करते हैं।

फेफड़ों की मजबूती के लिए गुब्बारे काफी मददगार
अपने फेफड़ों की क्षमता बढ़ाने के लिए घरेलु उपचार के तौर पर गुब्बारे काफी मददगार संसाधन हैं। इसके लिए किसी भी साइज के बलून ले आएं। बड़े साइज के हों तो बेहतर है। गुब्बारे को अपने मुंह से हवा भरकर फुलाएं। हवा भरने के लिए पहले ज्यादा से ज्यादा हवा अपने फेफड़ों में भरें। इसके बाद उसे बलून के अंदर डालें। अगर फूले हुए बलून हों तो उनसे हवा निकालकर उन्हें दोबारा फुला सकते हैं। इस तरह के अभ्यास से फेफड़े मजबूत होते हैं।
डॉ. केपी कुशवाहा, वरिष्ठ बाल रोग विशेषज्ञ


[ हिंदी एक्सप्रेस न्यूज़ के एंड्राइड ऐप को डाऊनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें, आप हमें फेसबुकट्विटरयूट्यूब और इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं। ]

Comments