कुशीनगर: भाजपा विधायक के साथ ही हो गया खेल, एक ही दिन में आई कोरोना की पॉजिटिव और निगेटिव रिपोर्ट

कुशीनगर/गोरखपुर: कोरोना टेस्ट से लेकर इलाज और मौतों में हो रहा सिस्टम का खेल तो जग जाहिर हो चुका है। लेकिन इस बार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शहर गोरखपुर से एक बेहद हैरान कर देने वाली खबर सामने आई है। कुशीनगर की खड्डा सीट से भाजपा विधायक जटाशंकर त्रिपाठी के साथ अजीबोगरीब मामला हुआ है। वह एक ही दिन में कोरोना पॉजिटिव और निगेटिव दोनों पाए गए। विधायक ने एक निजी लैब को अपना नमूना दिया था। जिसके बारे में लैब ने उन्‍हें बताया कि सैंपल गायब हो गया है। लेकिन जो शख्‍स लैब से दोबारा नमूना लेने आया उसने पहले वाली रिपोर्ट विधायक को दे दी। उस रिपोर्ट में विधायक निगेटिव थे। इसके बाद भी विधायक ने एक बार और कन्‍फर्म करने के लिहाज से लैब को दोबारा अपना सैंपल दे दिया। उसी दिन सरकारी अस्‍पताल से भी विधायक ने अपनी जांच कराई। अब विधायक को निजी लैब से जो रिपोर्ट मिली है उसमें वे पॉजिटिव और सरकारी लैब से मिली रिपोर्ट में निगेटिव हैं।

विधायक ने ट्वीट कर कसा तंज
इस अजीबोगरीब स्थिति के बाद उनके करीबी और मानव सेवा संस्‍थान के निदेशक राजेश मणि ने अपने फेसबुक एकाउंट पर इस पूरे मामले को शेयर किया है। बाद में इस पोस्‍ट को टैग करते हुए विधायक जटाशंकर ने एक ट्वीट में सवाल उठाया कि आखिर कब तक यह सब चलेगा? राजेश मणि ने अपनी फेसबुक पोस्‍ट में बताया विधायक़ जटा शंकर त्रिपाठी 18 अप्रैल को कोविड पॉजिटिव हुए थे। फोर्टिस हॉस्पिटल के पूर्व कंसलटेंट डॉ.आशुतोष शुक्‍ल की देखरेख में घर पर ही उनकी दवा चली। कोविड-19 के पूरे प्रोटोकाल का पालन विधायक ने किया। इसके 12 दिन बाद 29 अप्रैल को एक निजी पैथालॉजी ने विधायक का सैंपल लिया। पांच दिन तक रिपोर्ट नहीं मिलने पर पूछताछ की तो लैब वाले ने बताया की लग रहा है कि सैंपल कहीं ग़ायब हो गया है। तीन मई को वह दोबारा सैंपल लेने आया। संयोग से उसी दिन विधायक ने सरकारी डॉक्‍टर को भी फोन किया था। सरकारी टीम ने भी तीन मई को ही सैंपल लेकर एंटीजन और आरटी-पीसीआर टेस्‍ट किया इन दोनों टेस्‍ट में विधायक निगेटिव आए।

सोशल मीडिया पर चर्चाओं का बाज़ार गर्म
सीएम सिटी में चल रहे कोरोना टेस्ट के खेल का भाजपा विधायक के ही शिकार होने के बाद यह मामला शहर से लेकर सोशल मीडिया तक चर्चा का विषय बना हुआ है। दबे जुबान से लोग यह कहने लगे हैं कि जिस तरह मरीजों के उपचार के लिए अस्पतालों में खेल रहा है, ठीक उसी तरह कोविड टेस्ट में भी सिस्टम का खेल जारी है।

Comments