सीतापुर: लोगों ने डॉलफिन तक को नही छोड़ा, पहले काटा, फिर कर लिया बंटवारा

सीतापुर: बताया जाता है कि डॉलफिन मछली समझदार और शांत स्वाभाव की मछली होती है। इनकी याददास्त सबसे लम्बी होती है और ये इंसानों को जल्दी नुकसान नही पहुंचाती। लेकिन तब क्या हो जब इंसान इन्हें नुकसान पहुँचाने पर आतुर हो जाए और उन्हें खाने की नियत से मार डाले।

ऐसा ही एक हैरान और परेशान कर देने वाला मामला सीतापुर जनपद में हुआ है। बताते चले कि हरगांव थाना क्षेत्र अंतर्गत शारदा सहायक पोषक नहर में कहीं से एक डॉलफिन मछली आ गई। आसपास के कुछ ग्रामीणों ने जाल लगाकर डॉल्फिन को पकड़ लिया। यही नहीं, उसे मार भी डाला और काटकर आपस में बांट भी लिया।
किसी ने इस मामले का विडियो बना लिया और सोशल मीडिया परपोस्ट कर दिया इंटरनेट पर वीडियो वायरल होते ही वन विभाग के अधिकारी हरकत में आ गए। वन रक्षक कमलेश जायसवाल व वन दारोगा गुरु नारायण यादव ने विडियो में दिख रहे आरोपितों के विरुद्ध थाने में तहरीर दी है। पुलिस ने एक आराेपित को गिरफ्तार भी कर लिया है। 

बता दें कि घटना रविवार शाम छह बजे की बताई जा रही है। दहिरापुर व तकिया सुल्तानपुर के कुछ ग्रामीण नहर के बीचो-बीच पुल के पास जाल डालकर मछलियां पकड़ रहे थे की तभी उनके जाल में एक बड़ी मछली फंस गई। कई ग्रामीणों ने मिलकर मछली को पानी से बाहर निकाला और उसे बाइक पर बांधकर कहीं लेकर भाग गए। नहर से मछली निकालने और बाइक पर बांधने का वीडियो इंटरनेट मीडिया पर किसी ने वायरल कर दिया।

सूचना मिलने पर रेंजर समर बहादुर सिंह यादव अपनी टीम के साथ नहर के पुल पर पहुंचे। घटना स्थल का मुआयना किया। आसपास मौजूद ग्रामीणों से पूछताछ की। वायरल वीडियो के आधार पर दहिरापुर गांव के निवासी पृथ्वी कुमार और बेटे मिथुन के साथ करीब एक दर्जन अज्ञात ग्रामीणों व मछुवारों के विरुद्ध हरगांव थाने में तहरीर दी। जिस पर थानाध्यक्ष धर्म प्रकाश शुक्ल ने तत्काल मुकदमा दर्ज किया और पुलिस टीम के साथ दबिश देकर दहिरापुर गांव से नामजद आरोपित पृथ्वी कुमार को गिरफ्तार कर लिया।

अज्ञातों की तलाश और पहचान में जुटी पुलिस
हरगांव थानाध्यक्ष ने बताया, गिरफ्तार पृथ्वी कुमार के बेटे मिथुन की तलाश की जा रही है। साथ ही वायरल वीडियो में देखकर अज्ञात लोगों की पहचान की जा रही है। थानाध्यक्ष ने बताया, आरोपितों के विरुद्ध वन्य जीव अधिनियम संरक्षण-1972 के तहत मुकदमा लिखा गया है।


[ हिंदी एक्सप्रेस न्यूज़ के एंड्राइड ऐप को डाऊनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें, आप हमें फेसबुकट्विटरयूट्यूब और इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं। ]

Comments