लखनऊ: मंत्री पद से इस्तीफ़ा के बाद स्वामी प्रसाद मौर्या पर लटकी गिरफ़्तारी की तलवार, नोटिस तलब

लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार में श्रम मंत्री रहे स्वामी प्रसाद मौर्या के खिलाफ़ 7 साल पुराने मामले को लेकर मुकदमा दर्ज किया गया है। आरोप है कि साल 2014 में स्वामी प्रसाद मौर्या ने देवी-देवताओं पर आपत्तिजनक टिपण्णी किया था और एक समुदाय विशेष की धार्मिक भावनाओं पर चोट किया था।

मंगलवार को स्वामी प्रसाद मौर्या के इस्तीफे के बाद अब उनपर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है। MP/MLA कोर्ट ने स्वामी प्रसाद मौर्या के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया है। बताते चलें कि सात साल पुराने मामले को लेकर स्वामी प्रसाद मौर्या को MP/MLA कोर्ट ने नोटिस तलब की है। जिसमें साल 2014 में उनके द्वारा देवी देवताओं पर किये गए आपत्तिजनक टिप्पणियों के चलते उन्हें 24 जनवरी तक सुल्तानपुर कोर्ट में पेश होने का आदेश दिया गया है। स्वामी प्रसाद मौर्या के खिलाफ इससे पहले भी गिरफ्तारी वारंट जारी हुआ था लेकिन साल 2016 में उन्होंने इस वारंट पर ‘स्टे आर्डर’ ले लिया था।

जानकारी के मुताबिक मौर्या के खिलाफ बीते 6 जनवरी को ही मामले की सुनवाई के दौरान 12 जनवरी को कोर्ट में हाजिर होने का आदेश दिया गया था। लेकिन बुधवार 12 जनवरी को जब वो न्यायलय में हाजिर नहीं हुए तो इसी गिरफ्तारी वारंट को दोबारा जारी कर हाजिरी की अगली तारीख 24 जनवरी कर दी गई है।


[ हिंदी एक्सप्रेस न्यूज़ के एंड्राइड ऐप को डाऊनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें, आप हमें फेसबुकट्विटरयूट्यूब और इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं। ]



ADVERTISEMENT

Comments